जाने उत्तर प्रदेश की कौन सी लेडी टाप 20 खूबसूरत महिलाओं मे शामिल

10 Jan 2018 17:18:00 pm

लखनऊ. राजधानी लखनऊ की रहने वाली तेजस्विनी सिंह (28) जल्द ही दुनिया की 20 खूबसूरत भारतीय महिलाओं के बीच दिखाई देंगी। जनवरी 2018 में सिंगापुर में होने वाली मिसेज इंडिया इंटरनेशनल ब्यूटी कम्पटीशन के लिए इन्हें यूपी से चुना गया है। मूल रूप से देवरिया डिस्ट्रिक्ट की रहने वाली अपनी प्रतिभा के दम पर दुनिया भर की खूबसूरत लेडीज को पीछे छोड़ इंटरनेशनल लेवल के कम्पटीशन में जगह बनाई है। ये पेशे से जर्नलिस्ट और हर्बल प्रोडक्ट की निर्माता भी है। इन्होंने  satyabandhubharat .com से बात की और अपने एक्सपीरियेंस को शेयर किया।

 


ऐसा बीता था बचपन...

 

- तेजस्विनी ने बताती है, ''मेरा जन्म 13 दिसम्बर 1989 को फैजाबाद में हुआ था। मूल रूप से देवरिया की रहने वाली हूं। लेकिन अभी लखनऊ में रह रही हूं। पिता श्रीराम सिंह चकबंदी अधिकारी थे। मां निर्मला हाउस वाइफ है। हम 2 बहनें और एक भाई थे। मैं दूसरे नंबर पर थी।''
- ''घर में बेटा-बेटी को लेकर कोई भेदभाव नहीं किया गया। मैं बचपन से ही पढ़ने में बहुत तेज और क्रिएटिव माइंड की रही हूं। हालांकि बड़ी बहन के बाद जब मैं पैदा हुई तो रिश्तेदार निराश हो गए और मेरी फैमिली का मजाक उड़ाने लगे कि एक और बेटी पैदा हो गई।''
- ''मेरे पैरेंट्स ने कभी इस बात की परवाह नहीं की। उन्होंने एक बेटे की तरह हमारा पालन पोषण किया।''

 

22 की उम्र में सिर से उठ गया था पिता का साया
- ''मेरे पापा को 2010 में ब्रेन ट्यूमर हो गया था। तब मैं 22 साल की थी। मेरा छोटा भाई आनन्द उस टाइम मुझसें 4 साल छोटा था और इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा था। बड़ी बहन प्रियंका उस समय दिल्ली में थी।''
- ''मैं उस समय लखनऊ में जनर्लिस्ट के तौर पर काम कर रही थी। मैंने घर के दूसरों लोगों से ये बात छिपाई और खुद से सारा अरेंजमेंट्स किया और पापा को पीजीआई लेकर आई।''
- ''वहां डॉक्टर ने बताया कि ये ज्यादा से ज्यादा 3-4 महीने ही सर्वाइव कर पाएंगे। 2011 में पापा का ऑपरेशन हुआ, मैंने खुद से हर्बल प्रोडक्ट तैयार कर पापा को लगाया। जिससे उनको अच्छी नींद आती थी। पापा की तबीयत खराब होने से पहले मेरी शादी हो गई थी।''
- ''डॉक्टर ने उनकी लाइफ 3 महीने बताई थी लेकिन मैंने इनकी खूब सेवा की थी। जिससे वे 5 साल तक जिंदा रहे। 2015 में उनकी डेथ हो गई। उस टाइम मैंने एक बेटे की तरह पूरी जिम्मेदारी उठाते हुए परिवार को संभाला था।''

 

पिता की डेथ के बाद छोड़नी पड़ी थी जॉब
- ''मैंने लखनऊ यूनिवर्सिटी से 2007 में ग्रेजुएशन कम्प्लीट किया। उसी दौरान कानपुर के एक मीडिया हाउस के लिए मेरा कैम्पस सेलेक्शन हो गया। 2008 में मैंने जनर्लिस्ट के तौर पर जॉब करना शुरू कर दिया था।''
- ''इस दौरान मुझे कई बड़े मीडिया हाउस में काम करने का मौका मिला लेकिन पापा की बीमारी के चलते मुझें अगस्त 2011 में रेग्युलर जॉब छोड़नी पड़ी। पापा की डेथ होने के 3 साल बाद तक किसी से कोई मतलब नहीं रखा।''
- ''हर्बल प्रोडक्ट तो मैंने 14 साल की उम्र में ही हॉस्टल में रहकर बनाना शुरू कर दिया था। कॉलेज से आने के बाद मैं रूम बंदकर डेली प्रोडक्ट बनाने के काम में जुट जाती थी। लेकिन 2011 में पापा के डेथ के बाद इस पर पूरी तरह से काम करना शुरू कर दिया।''
- ''मैंने 3 साल में 70 प्रकार के हर्बल प्रोडक्ट को तैयार किया। आज मेरे बनाए गए हर्बल प्रोडक्ट की मार्किट में काफी अच्छी डिमांड है।''

 

ये अवार्ड कर चुकी है अपने नाम
- तेजस्विनी ने 25 सितम्बर 2016 को मिसेज यूपी ब्यूटी कांटेस्ट में हिस्सा लिया और विनर का अवार्ड जीता था।
- 9 सितम्बर 2017 को फोक टेल्ज सम्मान समारोह में हिस्सा लिया और फोक टेल्ज अवार्ड से सम्मानित किया गया।
- 27 अक्टूबर 2017 को सपा नेता अपर्णा यादव ने वूमैन इम्पावरमेंट अवार्ड से सम्मानित किया था।

 

2018 में मिसेज ग्लोब इंटरनेशनल कम्पटीशन में लेंगी हिस्सा
- जनवरी 2018 में सिंगापुर में होने वाली मिसेज इंडिया इंटरनेशनल ब्यूटी कम्पटीशन के लिए तेजस्विनी को यूपी से चुना गया है। इस कम्पटीशन को जीतने के बाद वह सितम्बर 2018 में साउथ अफ्रिका में होने मिसेज ग्लोब इंटरनेशनल कम्पटीशन में इंडिया का प्रतिनिधित्व करेंगी।
- तेजस्विनी ने बताया, ''सेलेक्शन के टाइम काफी टफ कम्पटीशन से गुजरना पड़ा था। अगर इस कम्पटीशन को जीतती हूं तो सितम्बर 2018 में साउथ अफ्रीका में होने मिसेज ग्लोब इंटरनेशनल कम्पटीशन में इंडिया का प्रतिनिधित्व कर पाऊंगी।''

मुख्य समाचार