विश्व साहित्य शिल्पी सम्मान से अलंकृत की गई भारत की बेटी, बहू नीरजा शुक्ला

25 Aug 2019 11:59:25 am

यह वह समय था जब द्वितीय अंतराष्ट्रीय विश्व हिंदी साहित्यिक सम्मेलन कनाडा में जोर शोर से मनाया जा रहा था. साहित्यिक रथ निकलना और चलते मंच पे काव्य पाठ इस सम्मेलन का हिस्सा था...स्वतंत्रता दिवस की परेड में "विश्व हिंदी संस्थान कनाडा" एवं ग्लोबल हिंदी संस्थान भारत का साहित्य रथ भारत माता की जय वंदे मातरम के नारों से टोरंटो को गुंजायमान करते हुए शान से चला... करीब 80 हज़ार लोग इसके साक्षी बने यह बेहद अद्भुत दृश्य एवं रोमांचकारी था. भारतीय व्यंजनों का सभी धर्म के लोग लुत्फ़ उठा रहे थे विशेष रूप से समोसे और जलेबी की बहुत मांग थी.यह साहित्य रथ सबको मिठाइया बांटता चल रहा था उसके अगले दिन नियाग्रा फॉल पे बहुत ही शानदार अन्दाज़ में कवि सम्मेलन के साथ वार्षिकोत्सव सम्पन्न हुआ फ्रांस बेल्जियम कैलिफोर्निया जापान भारत सहित दुनिया के विभिन्न देशों से गणमान्य विभूतियां आयीं जिन्होंने इस कार्यक्रम की हृदय से प्रशंसा की इसी भव्य मंच पर जब लखनऊ की नीरजा शुक्ला के संबोधन से पुकारा जाता है तो सच मानिए की उस प्रसन्नता को शब्दों में बयान कर पाना असंभव होता है क्योंकि एक भारतीय नारी जब अपनी प्रतिभा का लोहा विश्व पटल पर स्थापित कर देश का मान देश की भाषा का मान बढाती है तो प्रत्येक भारतीय का सर गर्व से ऊंचा होना लाजमी है 

गौरतलब है इस कार्यक्रम में नीरजा शुक्ला लेखिका एवं कवियत्री हैं उनको विदेश में अपनी मातृभाषा एवम संस्कृति के प्रचार के सतत प्रयासों के लिए सम्मानित किया गया
इस अवसर पर भारतीय उच्चायुक्त श्री विकास स्वरूपजी, विश्व हिंदी संस्थान कनाडा के प्रोफेसर सरन घई, ग्लोबल हिंदी शोध संस्थान कुरुक्षेत्र के चेयरमैन प्रोफेसर कामराज सिंधू जी मौजूद रहे 

इसके अतिरिक्त नीरजा शुक्ला को 1.विश्व हिंदी संस्थान कनाडा–"विश्व साहित्य शिल्पी सम्मान"भारतीय उच्चायुक्त श्री विकास स्वरूप के कर कमलों से 15 अगस्त को कनाडा की राजधानी ओटावा में दिया गया।
2.कैलिफोर्निया की संस्था ग्लोबल हिंदी ज्योति–"हिंदी भाषा सेवा सम्मान"
3.MPP मिसिसॉगा कनाडा द्वारा सम्मान पत्र
4.MP सुश्री सोनिया सिद्धू ब्राह्म्प्टन कनाडा द्वारा सम्मान पत्र
5.ग्लोबल हिंदी साहित्य शोध संस्थान कुरुक्षेत्र हरियाणा द्वारा–"भारतीय प्रवासी हिंदी साहित्य गौरव सम्मान"
उपरोक्त सम्मान लखनऊ की बेटी एवं बहू नीरजा शुक्ला को द्वितीय अंतराष्ट्रीय हिंदी साहित्यिक सम्मेलन में प्रदान किये गए

रिपोर्ट -संतोष कुमार पांडेय 

मुख्य समाचार