पुलवामा में शहीद जवानो के परिवारो की मदत के लिए डीएम मिर्जापुर ने इकट्ठा किये सत्तर लाख उन्नीस हज़ार रुपये

13 Jun 2019 18:05:48 pm

कहते हैं ऐसी कोई बात सच्ची और अच्छी बात नहीं जो किताबो में लिखी न जा चुकी हो या किसी शिक्षित व्यक्ति को पता न हो आवश्यकता है तो उसे सिर्फ़ आत्मसात करने की .हम भले ही सैनिक न हो फिर भी अगर जज्बा हो, जुनून हो तो हम किसी न किसी प्रकार से देशसेवा कर सकते हैं और इसी प्रकार की एक सच्ची सेवा पुलवामा में आतंकी घटना मे मारे गए सीआरपीएफ़ जवानो के परिवारो की मदत के लिए "पुलवामा शहीद कोष" के नाम से खाता खोलकर जनपद मिर्जापुर के आम नागरिको, व्यावसायिक संघ, सरकारी कर्मचारियों अधिकारियों, पत्रकारो आदि से सत्तर लाख उन्नीस हज़ार रुपये इकट्ठा करके माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश श्री योगी आदित्य नाथ जी को सौपा है डीएम मिर्जापुर अनुराग पटेल ने. शहीदो के परिवार को आम जनता की मदत से यह धनराशि एकत्र करके डीएम मिर्जापुर ने यह साबित कर दिया है कि देश सेवा के लिए सेना मे न रहकर भी सेवा की जा सकती है ज़रूरत है तो सिर्फ़ जज्बे की, सजगता की, समर्पण की 
इस महान कार्य के लिए जब डीएम मिर्जापुर से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि 
प्रत्येक नागरिक के मन में अपने देश के लिए सर्वस्व अर्पण करने की भावना होनी चाहिए। उसमें मातृभूमि के ऋण को चुकाने के लिए बलिदान की भावना हो। इस उद्देश्य की प्राप्ति केवल सेना में भर्ती होकर सीमा सुरक्षा के द्वारा ही नहीं होती। बल्कि कई और तरीकों से भी अपनी योग्यता, रुचि और अभिरुचि के अनुरूप व्यक्ति देश के बहुमुखी विकास में योगदान दे सकता है। 

देश के प्रति अपने क‌र्त्तव्य और दायित्व का बोध किसी के द्वारा कराने की जरूरत नहीं होती बल्कि देश सेवा का जज्बा अंतरात्मा में होना चाहिए। देश की सुरक्षा में लगे जवानों के प्रति सभी में आदर भाव हो. हम जिस स्तर पर हो वहीं से देशसेवा करें। अक्सर हम अपने समाज में देखते हैं कि जिस परिवार का बेटा सेना में होता है उसे लोग सम्मान की दृष्टि से देखते हैं। उसके प्रति हमारे अंदर स्वत: ही सम्मान की भावना जागृत हो जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि हमारे अंदर देशसेवा की भावना है। प्रत्येक व्यक्ति चिंतन और आत्म मंथन करे कि जो देश की सीमा पर हमारे देश की रक्षा कर रहे हैं वह हमारे लिए आदरणीय हैं। वह अपने परिवार को छोड़कर बर्फ की पहाड़ियों पर खडे़ रहकर देश की रक्षा कर रहे हैं। हम सभी को अपने देश के वीर जवानों के प्रति सच्ची श्रद्धा रखनी चाहिए। हमें जब भी देशसेवा करने का मौका मिले उसे चूकना नहीं चाहिए।

मुख्य समाचार