भाभी जी घर पर हैं’ फेम अभिनेता प्रणय दीक्षित करेंगे ‘वे टू स्टेज’ के बाल कलाकारों का प्रोत्साहन

09 Jun 2019 12:41:24 pm

लखनऊ के सबसे बड़े प्रतिभा प्रोत्साहन अभियान ‘वे टू स्टेज’ का सेमीफाइनल 8 जून को

‘वे टू स्टेज’ के सेमीफाइनल में हिस्सा लेंगे लखनऊ के 400 बाल कलाकार

 

लखनऊ-7 जून-बच्चों की रचनात्मक प्रतिभा प्रोत्साहन के लिए शुरू हुए लखनऊ के अब तक के सबसे बड़े अभियान ‘वे टू स्टेज’ का सेमीफाइनल और फाइनल 8 जून को होना है।। इन्डोमेन्ट आर्टएडू फाउण्डेशन के तत्वावधान में शुरू किए इस अभियान में प्रतिभावान बच्चों को उनकी कलात्मक प्रतिभा को मंच उपलब्ध करवाया जाएगा।  पहले चरण में शहर के 12 स्कूलों के 400 से अधिक बच्चों को  अलग अलग कार्यशालाओं में गीत संगीत, डांस और ड्रामा जैसी विभिन्न विधाओं में प्रशिक्षण दिया गया। सोशल इन्टरप्रेन्योशिप इनीशिएटिव के तहत इस अभियान में समाज के सम्पन्न परिवारों के साथ साधनहीन परिवारों के बच्चों को भी बराबर मौके मुहैया करवाए गए हैं।

प्रतियोगिताओं की संयोजक अपूर्वा शुक्ला के मुताबिक 16 फरवरी से 6 जून 2019 के बीच चली विभिन्न कार्यशालाओं में तैयार की गई प्रस्तुतियों के चयन के लिए 8 जून को कैसरबाग स्थित राय उमानाथ बली प्रेक्षागृह में सेमी फाइनल और फाइनल प्रतियोगिताएं आयोजित की गई हैं। इन प्रतियोगिताओं की विभिन्न कैटेगरीज में चयनित बच्चों को 16 जून को गोमती नगर के विशाल खंड-4 स्थित राष्ट्रीय संस्कृत संस्थानम के ग्राउंड में विशेष प्रस्तुति का अवसर हासिल होगा।

फाउण्डेशन के निदेशक जय प्रकाश तिवारी ने बताया कि गायन, नृत्य, नाटक, कविता, वाद विवाद, चित्रकला की कार्यशालाओं के प्रतिभागियों की रचनाओं और प्रस्तुतियों के जजमेंट शहर के नामचीन कलाकार राय उमानाथ बली प्रेक्षागृह में 8 जून को करेंगे। सुप्रसिद्ध कथक नृत्यांगना डॉ. मीरा दीक्षित, कवि सर्वेश अस्थाना, रंगकर्मी तरूण राज, वेस्टर्न डांसर पुनीत मित्तल और चित्रकार बीना वर्मा , गायक अंकित सिंह जैसे विशेषज्ञ शामिल हैं।

सभी प्रतियोगिताओं के फाइनलिस्ट को विशेष प्रस्तुतियों के अवसर के साथ ही प्रमाण पत्र और इस अभियान में सहयोगी सामाजिक संगठन यूनाइट फाउण्डेशन के बाल क्लब यूकेयर की सदस्यता दी जाएगी, इस क्लब में सम्मिलित होने वाले बच्चे पर्यावरण संरक्षण के लिए रचनात्मक अभियान का हिस्सा बनेंगे। इसके अलावा विभिन्न पुरस्कारों के साथ ही बच्चों के प्रत्साहन के लिए विशेषज्ञों का पैनल इन्हें नियमित मार्गदर्शन देगा।

आयोजन समीति के जनसम्पर्क अधिकारी विद्याभूषण सोनी ने बताया कि 16 जून को होने वाले ग्रैंड फिनाले में शहर के नवोदित कलाकारों की प्रदर्शनी और सूफी कथक की प्रस्तुति के साथ ही विभिन्न शैक्षिक संस्थानों के बच्चों के बैंड की प्रस्तुतियां विशेष आकर्षण रहेंगीं।

इस अवसर पर पैरेन्टिंग के साथ ही बाल प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करने के लिए शहर के विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञ भी रहेंगे। इनमें वरिष्ठ वैज्ञानिक और रंगकर्मी डॉ अनिल रस्तोगी, स्टेट एनिमल वेलफेयर ऑफिसर डॉ प्रमोद कुमार त्रिपाठी, अधिवक्ता योगेश कुमार मिश्रा, कला एवम शिल्प महाविद्यालय के पूर्व डीन डॉ रतन कुमार और वरिष्ठ पत्रकार राधेश्याम दीक्षित जैसे विशेषज्ञ शामिल हैं।

 

मुख्य समाचार