परीक्षा केंद्र की गलती की सजा क्यों भुगते अभ्यर्थी?

03 Jun 2019 21:48:51 pm

परीक्षा केंद्र की गलती की सजा क्यों भुगते अभ्यर्थी?


NEET एमबीबीएस-बीडीएस में दाखिले को लेकर नेशनल इलिजिबिलिटी कम एंट्रेस टेस्ट यानी नीट एक ऐसी परीक्षा है जिसमे मेडिकल क्षेत्र में अपना करियर बनाने के लिए अभ्यर्थी दिन-रात मेहनत करके परीक्षा में पास होने का सपना देखते है लेकिन यहाँ एक ऐसा मामला सामने आया है जहाँ अभ्यर्थी के सपनो को परीक्षा केन्द्र की लापरवाही का खामियाजा भुगतान पड़ रहा है और वह इस व्यवस्था के खिलाफ प्रार्थना पत्र लेकर यहाँ से दिल्ली तक भटक रहा है 

सतेन्द्र मिश्र अभ्यर्थी के द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार इंस्टीट्यूट्स ऑफ़ टेक्नोलॉजी मैनेजमेंट केंद्र सेन्टर कोड 440833 लखनऊ वह 5 मई 2019 को 2 बजे से 5 बजे तक परीक्षा देने समय से पहुच गये थे लेकिन परीक्षा केंद्र पर सतेन्द्र और अन्य अभ्यर्थीयो को प्रश्न पत्र 25 मिनट देर से मिला , जब अभ्यर्थी ने इसकी शिकायत परीक्षा केन्द्र पर की तो उसकी एक ना सुनी गई फिर उपरोक्त शिकायत पत्र अभ्यर्थी  एन.टी.ए नोएडा ऑफिस में लेकर गया लेकिन अब तक उसकी समस्या का समाधान नहीं हो सका वहा भी उसे अपनी समस्या पर कोई समाधान नहीं मिला अब सवाल यहाँ उठता है की नीट जैसी परीक्षा जहाँ एक-एक मिनट भी कीमती होता है ऐसे में अभ्यर्थीें  को 25 मिनट बाद प्रश्न पत्र मिलता है और अभ्यर्थी का कहना है की प्रश्न पत्र के उत्तर उसे आते थे मगर वह उसे समयाभाव के कारण हल नहीं कर सका आखिर इस तरह की उच्चकोटि की परीक्षा जहा पर समय ही कीमती होता है उसमे परीक्षा केंद्र द्वारा की गई लापरवही की ज़िम्मेदारी से एक अभ्यर्थी का भविष्य दाव पर लग गया इसकी जिम्मेदारी कौन लेगा और कौन करेगा अभ्यर्थी के साथ न्याय 
यह कैसी व्यवस्था है जहाँ परीक्षा केन्द्र की लापरवाही की सजा अभ्यर्थी भुगते और जिम्मेदार मौन साध ले

मुख्य समाचार